कमर दर्द लंबर पैन

0
110
कमर दर्द का उपचार :-
यह एक पुरानी बीमारी है, जिसमे पीठ में गर्दन से लेकर कमर के पास, रीढ़ के अंतिम छोर तक के जोड़ो में दर्द या सूजन हो जाती है ,हमारे चलने और बैठने का गलत तरीका गर्दन और कमर के बीच की हड्डी पर असर डालता है , न्यूरो तंत्रिका में खिंचाव के कारण यह दर्द गर्दन ,बांहे कंधे ,पीठ और कमर तक फ़ैल जाता है
डिस्क सम्बंधित दर्द –
हमारी रीढ़ की हड्डी ,गर्दन (सर्वाइकल वाटरेबर), और पीठ व कमर के निचले हिस्से (लंबर) में बटी होती है , रीढ़ की हड्डी पर अधिक दबाव से डिस्क क्षतिग्रस्त या टूट जाता है ,डिस्क के क्षतिग्रस्त होने पर उत्पन्न दर्द पैरो तक भी फ़ैल जाता है ,जिसे सायटिका कहते है
पीठ दर्द में रहत देती मुद्राये : ध्यान दे की लगातार 8 घंटे न बैठे यदि कार्यालय में बैठे है तो घर पर 8 घंटे लेते
कार में बैठते समय अपने कूल्हे से ऊँचे होने चाहिए,
पेट के बल लेटना – इससे रीढ़ की हड्डी घुमावदार बनती है , पर कूल्हे के निचे तकिया रखकर लेटना राहत देता है
कमरदर्द नाशक आयुर्वेदिक इलाज: मोहनजी पंसारी हर्बल प्रोडक्ट का उत्पाद सायटिका चूर्ण ,रिलीफ चूर्ण ,के सेवन से 2-3 महीने में आराम आ जाता है
मालिश के लिए , रिलीफ तेल ,दर्द मुक्ति तेल, और दर्द मुक्ति मलहम का मालिश कर दो समय (सुबह शाम)
नोट- यह दवा वी. पी. पी./ डाक द्वारा भी भेजी जा सकती है। आर्डर करने के लिए हमे अपना पूरा नाम, पता एवं नंबर, ईमेल या मेसेज व वोट्स एप्प भी कर सकते है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here